Muharram kab hai – 2020 me Muharram ki pehli tarikh kab hai.

सुन्नी और शिया मुसलमान, भारत और दुनिया भर में मुहर्रम के 10वें दिन त्यौहार मनाते हैं। शिया मुसलमान मुहर्रम को शोक के महीने के रूप में मनाते हैं। 680 ईस्वी में मोहर्रम की 10वीं तारीख को कर्बला के मैदान में नरसंहार हुआ था और लड़ते-लड़ते ह. इमाम हुसैन की मृत्यु हो गई थी। इमाम हुसैन पैगंबर मोहम्मद स. के नाती थे।

Muharram kab hai

मुहर्रम कब है? 2020 में मुहर्रम की पहली तारीख कब है (Muharram kab hai – 2020 me Muharram ki pehli tarikh kab hai)

मोहर्रम का महीना वर्ष 2020 में 20 अगस्त, गुरुवार के शाम से शुरू होगा और 18 सितंबर, शुक्रवार के शाम को समाप्त हो जायेगा। क्योंकि इस्लामिक कैलेंडर चाँद पर आधरित है, इसलिए छुट्टी गुरुवार 20 अगस्त की शाम को पिछले दिन के सूर्यास्त पर शुरू होती है।

2020 me Muharram ki pehli tarikh kab hai.
21 अगस्त, शुक्रवार के दिन मुहर्रम की पहली तारीख है।
(21 August, Friday ko Muharram ke mahine ka pahla din shuru hoga)

2020 me Muharram ki daswin (10) tarikh kab hai.
30 अगस्त, रविवार को  मुहर्रम की 10वीं तारीख है।
(30 August, Sunday ko Muharram ka tyohar manaya jayega)

मुहर्रम महीना के बारे में जानकारी

मुहर्रम इस्लामिक कैलेंडर में पहला महीना होता है। मुहर्रम का पहला दिन मुसलमानों द्वारा इस्लाम के नए साल की शुरुआत के रूप में माना जाता है। यह दिन सार्वजनिक अवकाश नहीं है, इसलिए दिन के आधार पर सरकारी और व्यावसायिक कार्यालय खुले रहते हैं। भारत के साथ पुरे दुनिया में मोहर्रम की 10 वीं तारीख को मनाया जाने वाला आशूरा, प्रतिबिंब और उपवास का दिन होता है।

मुहर्रम कैसे मनाया जाता है?

मुहर्रम को शिया मुसलमानों द्वारा हज़रत इमाम हुसैन की शहादत को याद करने और शोक व्यक्त करने का दिन माना जाता है, जो मुहर्रम की पहली रात से शुरू होता है और अगले 2 महीना 8 दिनों तक जारी रहता है। त्यौहार के पहले दस दिनों की अधिक महत्व होती है। शिया समुदाय मुहर्रम के शुरुआती दिन से काले कपड़े पहनता है और नमाज़ अदा करता है। काला रंग शोक का रंग दर्शाता है। दसवें दिन, शिया मुसलमान सड़कों में जुलूस निकालते हैं। वे सड़कों पर नंगे पैर चलते हैं। वे हुसैन के कारनामो को जोर-शोर से गाते हैं और जंजीरों से अपने पीठ पर मरते हैं। या हुसैन, या हुसैन के नारे लगते हैं ।

मुहर्रम महोत्सव का महत्व

शिया मुस्लिम समुदाय, कर्बला युद्ध से अली के बेटे और पैगंबर मुहम्मद के नाती हुसैन इब्न अली के निधन पर शोक व्यक्त करता है। कर्बला का मैदान इराक का एक प्रसिद्ध तीर्थस्थल है। 680 ई. में हुसैन इब्न अली करबला में मारा गया। अंत तक, उसने लड़ाई में यज़ीद की सेना का मुकाबला किया और अंत में मारा गया। मुहर्रम का 10वां दिन, जोकी आशूरा का दिन होता है, हुसैन के बहादुर बलिदान को याद करने का एक अवसर होता है। अशूरा का दिन मुसलमानों के लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बताया गया है कि इस दिन मूसा और उनके अनुयायियों ने मिस्र के फिरौन पर विजय प्राप्त की थी।

मुहर्रम की छुट्टी के दौरान सार्वजनिक जीवन

मुहर्रम का दसवां दिन (यनि त्यौहार के दिन) पुरे भारतवर्ष में राजपत्रित अवकाश (Gazetted holiday) होता है। इसलिए, इस दिन डाकघर, बैंक और सरकारी कार्यालय बंद रहते हैं। इस्लामिक व्यवसाय और स्टोर बंद ही रहते हैं या काम के घंटे कम कर दिए जाते हैं। बड़ी परेड, मार्च और प्रार्थना सभाएं यातायात में स्थानीय व्यवधान का कारण बन सकती हैं। त्योहार के दौरान मुस्लिम बहुल इलाकों में यातायात के मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है।

कहाँ मुहर्रम की छुट्टी बितायें

मुहर्रम महत्वपूर्ण इस्लामिक त्यौहारों में से एक है। यह त्यौहार देश के सभी हिस्सों में मुसलमानों और हिंदुओं द्वारा भी मनाया जाता है। केरल, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक यह तीन भारतीय राज्य हैं, जो त्यौहार मनाने के लिए प्रसिद्ध हैं। यदि आप त्यौहार के दौरान घुमने की योजना बना रहे हैं, तो इन तीन राज्यों का दौरा कर के त्यौहार की वास्तविक सुंदरता का आनंद लें।

मुहर्रम के दिन लोग क्या – क्या करते है?

मुहर्रम इस्लामिक कैलेंडर का पहला महीना होता है। कुछ मुस्लिम महीने के 9वें और 10वें या 10वें और 11वें दिन रोजा (उपवास) करते हैं। वे मस्जिदों या निजी घरों में विशेष प्रार्थना सभाओं में भी भाग ले सकते हैं।

सभी मुस्लिम समूह मुहर्रम के अवसर को समान रूप से नहीं मानते हैं। कुछ मुसलमान मोहर्रम को कर्बला की लड़ाई की याद में शोक का महीना मानते हैं। मुहर्रम मुख्य रूप से एक इस्लामिक अवकाश है, लेकिन अन्य धर्मों के लोग भी भारत में मुहर्रम की गतिविधियों में भाग लेते हैं या देखते हैं।

जानिए रमजान कब से है – 2020 में रमजान का पाक महीना कब से शरू है?

यदि आपको हमरे द्वारा लिखा Muharram kab hai – Muharram ki pehli tarikh kab hai पोस्ट अच्छा लगा तो सोशल मीडिया पर शेयर जरुर कर दें।

Spread the love

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

  • Sign up
Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.
We do not share your personal details with anyone.
×

Cart