Hindi Kawita Ghazal Shayari & Jokes

Maa ka Dil – Heart Touching Story in Hindi – माँ’ तो ‘माँ’ होती है

Maa ka Dil – Heart Touching Story in Hindi – माँ’ तो ‘माँ’ होती है

 

हैलो माँ !!

मैं रवि बोल रहा हूँ !!

कैसी हो माँ….??

मैं…. मैं…. ठीक हूँ बेटे ये बताओ तुम और बहू दोनों कैसे हो…..??

हम दोनों ठीक है !!

माँ आपकी बहुत याद आती है !! अच्छा सुनो माँ मैं अगले महीने इंडिया आ रहा हूँ तुम्हें लेने !!

क्या…??  हाँ माँ अब हम सब साथ ही रहेंगे….!!

नीतू कह रही थी माज़ी को ✈ अमेरिका ले आओ वहाँ अकेली बहुत परेशान हो रही होंगी.!!

हैलो सुनरही हो माँ….??

हाँ हाँ बेटे “बूढ़ी आंखो से खुशी की अश्रुधारा बह निकली” बेटे और बहू का प्यार नस नस में दौड़ने लगा !!

जीवन के सत्तर साल गुजार चुकी सावित्री ने जल्दी से अपने पल्लू से आँसू पोंछे और बेटे से बात करने लगी !!

पूरे दो साल बाद बेटा घर आ रहा था !!

बूढ़ी सावित्री ने मोहल्ले भरमे दौड़ दौड़ कर ये खबर सबको सुना दी !!

सभी खुश थे की चलो बुढ़ापा चैनसे बेटे और बहू के साथ गुजर जाएगा !!

रवि अकेला आया था उसने कहा की माँ हमे जल्दी ही वापिस जाना है इसलिए जो भी रुपया पैसा किसी से लेना है वो लेकर रखलों और तब तक मैं किसी प्रोपेर्टी डीलर से मकान की बात करता हूँ !!

मकान…?? माँ ने पूछा !!

हाँ माँ अब ये मकान बेचना पड़ेगा वरना कौन इसकी देखभाल करेगा !!

हम सबतो अब अमेरिका मे ही रहेंगे बूढ़ी आंखो ने मकान के कोने कोने को ऐसे निहारा जैसे किसी अबोध बच्चे को सहला रही हो !!

आनन फानन और औने-पौने दाम मे रवि ने मकान बेच दिया !!

सावित्री देवी ने वो जरूरी सामान समेटा जिस से उनको बहुत ज्यादा लगाव था !!

रवि टैक्सी मँगवा चुका था !!

एयरपोर्ट पहुँचकर रवि ने कहा,”माँ तुम यहाँ बैठो मैं अंदर जाकर सामान की जांच और बोर्डिंग और विजा का काम निपटा लेता हूँ” !!

ठीक है बेटे, “सावित्री देवी वही पास की बेंच पर बैठ गई” !!

काफी समय बीत चुका था !!

बाहर बैठी सावित्री देवी बार बार उस दरवाजे की तरफ देख रही थी जिसमे रवि गया था लेकिन अभी तक बाहर नहीं आया !!

शायद अंदर बहुत भीड़ होगी सोचकर बूढ़ी आंखे फिर से टकट की लगाए देखने लगती !!

अंधेरा हो चुका था !!

एयरपोर्ट के बाहर गहमागहमी कम हो चुकी थी।

माजी किस से मिलना है ??

एक कर्मचारी ने वृद्धा से पूछा….??

“मेरा बेटा अंदर गया था टिकिट लेने वो मुझे ✈ अमेरिका लेकर जा रहा है”, सावित्री देवी ने घबराकर कहा !!

लेकिन अंदर तो कोई पैसेंजर नहीं है अमेरिका जाने वाली ✈ फ्लाइट तो ☀ दोपहर में ही चली गई !!

क्या नाम था आपके बेटे का….??

कर्मचारी ने सवाल किया…..??

र……रवि सावित्री के चेहरे पे चिंता की लकीरें उभर आई !!

कर्मचारी अंदर गया और कुछ देर बाद बाहर आकर बोला माजी आपका बेटा रवि तो अमेरिका जाने वाली ✈  फ्लाइट से कब का जा चुका !!

“क्या ??

वृद्धा कि आखो से आँसुओं का सैलाब फुट पड़ा !!

बूढ़ी माँ का रोम रोम कांप उठा !!

किसी तरह वापिस घर पहुंची जो अब बिक चुका था !!

रात में घर के बाहर चबूतरे पर ही सो गई !!

सुबह हुई तो दयालु मकान मालिक ने एक कमरा रहने को दे दिया !!

पति की पेंशन से घर का किराया और खाने का काम चलने लगा !!

समय गुजरने लगा एक दिन मकान मालिक ने वृद्धा से पूछा ??

माजी क्यों नही आप अपने किसी रिश्तेदार के यहाँ चली जाए अब आपकी उम्र भी बहुत हो गई अकेली कब तक रह पाएँगी !!

हाँ चली तो जाऊँ लेकिन कल को मेरा बेटा आया तो..??

यहाँ फिर कौन उसका ख्याल रखेगा ….??

आखँ से आसू आने लग गए दोस्तों ….!!

माँ बाप का दिल कभी मत दुखाना दोस्तों मेरी आपसे ये हाथ जोड़कर विनती है !!

ये पोस्ट को अपने  दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे !!

धन्यवाद आप सबका जो आपने अपना कीमती समय निकाल कर इस पोस्ट को दिया !!

‘माँ’ तो ‘माँ’ होती है…!

 

 

माँ की ममता ईश्वर का वरदान है

सच पूछो तो माँ, इन्सान नहीं भगवान है

माँ के चरणों में जन्नत का हर रूप होता है

माँ में हीं ईश्वर का हर स्वरूप होता है

माँ, जो हर बच्चे के दिल की चाह होती है

मुसीबत में एक नई राह होती है

जो हर किसी के करीब नहीं होती

जो हर किसी को नसीब नहीं होती

माँ की एहमियत उनसे पूछो जिनकी माँ नहीं होती है

जो हर बच्चे की जान होती है

जो हर रिश्ते का मान होती है

सभी का एक मात्र अरमान होती है

हर किसी को माँ की ममता मिले, अपनी माँ से

कभी कोई न बिछड़े अपनी माँ से

यही है मेरी एक मात्र दुआ उस खुदा से

जिनकी माँ हो, उसे क्या पता कि माँ क्या होती है

माँ को जानना है तो उनसे पूछो जिनकी माँ नहीं होती है

 

 

माँ जिंदगी की कड़ी धूप मे छाया मुझ पे किये

खड़ी रहती है सदा माँ मेरे लिये

माँ के आँचल मे आकर हर दुख भूल  जाँऊ

हाथ रखे जो सर पे चैन से मै सो जाऊँ

वो जाने मुझे मुझसे ज्यादा वो चाहे मुझे सबसे ज्यादा

मेरी हर खुशी को मुझे देने के लिये

खड़ी रहती है सदा माँ  मेरे लिये

हर चोट का माँ है इकलौता मरहम

गोद मे उसकी सर रखके मिट जाये सारे गम

जिंदगी की हर घड़ी मे साथ उसका है जरूरी

माँ के साथ बिना हर खुशी है अधूरी

इस दुनिया के काँटो को फूल बनाये हुऐ

खड़ी रहती है सदा माँ  मेरे लिये।

 

Dear readers, if you liked the post please do not forget to share with your friends at Facebook or other social media. Click on below button to share.

If you have any kind of information, suggestion related to this post, or want to ask any question please make comment in the below comment box.

If you want to purchase Assignments, Model papers and Project report please do contact us.
To know more about MBA AssignmentsModel papersProject reports, click on the links.

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *