बकरा ईद कब की है – भारत में ईद उल जुहा डेट 2020 में कब है?
ईद उल ज़ुहा को बलिदान पर्व, बकरीद, बकरा ईद, ईद उल जुहा या ईद-उल-बक़ाह के रूप में भी जाना जाता है। यह एक ऐसा त्योहार है जिसे मुसलमान विशेष प्रार्थना, अभिवादन और उपहारों के साथ मनाते हैं। इस दिन भारत में सरकारी अवकाश (Gazetted holiday) होता है। यह सामान्य आबादी के लिए एक दिन की छुट्टी है और स्कूल, कॉलेज, सरकारी दफ्तर और अधिकांश व्यवसाय बंद रहते हैं।

बकरा ईद

दुनिया भर के मुसलमानों का मानना ​​है कि अल्लाह (ईश्वर) ने इब्राहिम अ. (अब्राहम) को अपने बेटे, इश्माएल की बलि देने की आज्ञा दी। इब्राहिम ने अल्लाह (भगवान) के आदेशों का पालन किया, लेकिन जब  इब्राहिम अ. अपना बेटा को कुर्बानी के लिए लेटा दिया और आँखों पर पट्टी बांध कर छुरा चलाया तो उनके बेटे की जगह को अंतिम समय में एक भेड़ ने ले लिया। इब्राहिम अ. ने भेड़ का बलि दे दिया और उनका बेटा बच गया। मुस्लिम इसे ईद उल ज़ुहा के रूप में मनाते हैं। भारतीय उपमहाद्वीप में ईद उल ज़ुहा को बकरा ईद कहा जाता है।

2020 भारत में बकरा ईद कब की है / ईद उल जुहा डेट

भारत में बकरा ईद / ईद उल जुहा 30 जुलाई 2020 गुरुवार की शाम से शुरू होगा और 01 अगस्त 2020 की शाम को समाप्त हो जायेगा। आपको बता दें की मुस्लिम मानताओं के अनुसार बकरा ईद का त्यौहार 3 दिनों तक मनाया जाता है।

भारत में ईद उल जुहा डेट / बकरा ईद 2020 से 2030 तक का कैलेंडर

2020 : 31 जुलाई (शुक्रवार)
2021 : 20 जुलाई (मंगलवार)
2022 : 10 जुलाई (रविवार)
2023 : 29 जून (गुरूवार)
2024 : 17 जून (सोमवार)
2025 : 7 जून (शनिवार)
2026 : 27 मई (बुधवार)
2027 : 17 मई (सोमवार)
2028 : 5 मई (शुक्रवार)
2029 : 24 अप्रैल (मंगलवार)
2030 : 14 अप्रैल (रविवार)

नोट: बकरा ईद या कोई भी मुस्लिम त्यौहार चाँद और अरबी कैलंडर पर आधारित है इस लिए यह 1 से 2 दिन आगे या पीछे हो सकता है। सभी मुस्लिम त्यौहार हर साल 10 से 12 दिन पहले ही हो जाता है।

बकरा ईद के दौरान सार्वजनिक जीवन

पुरे देश में स्कूल, कॉलेज, सरकारी कार्यालय, डाकघर और बैंक आदि ईद उल अज़हा पर एक दिन के लिए बंद हो जाते हैं। इस्लामिक स्टोर, व्यवसाय और अन्य संगठन बंद हो हो जाते हैं या खुलने का समय कम कर देते हैं। सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने वाले लोगों को समय-सरणी में बदलाव का पता करने के लिए स्थानीय परिवहन अधिकारियों से संपर्क करना पड़ता है। उस दिन सुबह बड़े पैमाने पर प्रार्थना सभाओं का आयोजन से यातायात में थोड़ी से बाधाएं हो सकता है। यह मुख्य रूप से भारत में मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्रों होता है।

बकरा ईद के दिन लोग क्या करते है?

ईद उल ज़ुहा एक ऐसा त्योहार है जो भारत और दुनिया भर में पारंपरिक उत्साह, हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। कई मुसलमान नए कपड़े पहनते हैं और ईद उल जुहा के दौरान मुसलमान ईदगाह या मस्जिद में जमा होते हैं और जमात के साथ 2 रकात नमाज अदा करते हैं। यह नमाज अमूमन सुबह के समय आयोजित की जाती है।

नमाज अदा करने के बाद वे भेड़ या बकरी की कुर्बानी (बलि) देते हैं और परिवार के सदस्यों, पड़ोसियों और गरीबों के साथ मांस साझा करते हैं। सभी मुसलमान मानते है कि उनका यह कर्तव्य है कि वे सुनिश्चित करें कि सभी मुसलमान इस छुट्टी केअछ्चा और स्वादिष्ट भोजन का आनंद ले सकें।

जानिए सऊदी अरब में ईद कब है और कैसे मानते हैं 

दोस्तों  बकरा ईद पर लिखा यह पोस्ट आपको कैसा लगा हमें कमेंट के माध्यम से जरुर बताएं। आपका सुझोव हमारे सर-आखों पर, पोस्ट को सोशल मीडिया में शेयर जरुर कर दें ताकि दूसरों को भी इस के बारे में पता लगे।

Spread the love

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

  • Sign up
Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.
We do not share your personal details with anyone.
×

Cart